blogging

CDN क्या होता है और यह ब्लॉग के लिए क्यों जरुरी होता है

CDN Kya Hai

CDN क्या होता है और यह ब्लॉग के लिए क्यों जरुरी होता है? What is CDN in Hindi? Why it is important for Blog? Hello Friends! Guptatreepoint blog पर एक बार फिर से आपका स्वागत है| आज के इस पोस्ट में मैं CDN के बारे में बताने जा रहा हूँ की CDN क्या होता है और यह website या blog के लिए क्यों जरुरी होता है?

दोस्तों यदि आप एक blogger हैं तो आपको पता होगा की blog को रैंक कराने के लिए सबसे important होता है blog की loading speed बढ़ाना| जब तक आपकी blog की loading speed नहीं बढ़ेगी तब तक आप अपने ब्लॉग पोस्ट को Google या किसी दुसरे search engine में rank नहीं करा सकते हैं| यदि आप एक blogger हैं और आपका blog अगर WordPress platform पर है तो शायद आपने CDN का नाम सुना होगा क्योंकि WordPress platform पर बने blog का loading speed बढाने के लिए CDN बहुत ही महत्वपूर्ण होता है|

CDN क्या होता है?

CDN का full form Content Delivery Network होता है| Content Delivery Network Distributed group of server होता है जो की internet पर available content को fast deliver करने में मदद करता है| CDN internet पर available HTML page, JavaScript files, images और video सहित बहुत सारे content को user तक fastly पहुँचाने में या तेजी से transfer करने में मदद करता है|

अब चलिए हम example से समझते हैं| लगभग सभी bloggers WordPress platform पर blog को run कराने के लिए Shared hosting का इस्तेमाल करते हैं जहाँ पर हमारा सारा डाटा और files एक server में store रहता है और जैसा की हम सभी जानते हैं की shared hosting में एक server को एक से ज्यादा user के द्वारा share किया जाता है मतलब की वो केवल आपके लिए नहीं होता है|

For example यदि आपका blog Host gator पर hosted है और मान लीजिये की इस company का data centre (जहाँ पर hosting company available है) America में है तो जब भी कोई user आपके blog को open करेगा तो उसका request सबसे पहले America में data centre के पास जायेगा और उसके बाद उस user के browser में data load होगा तो ऐसी स्थिति में जब कोई user America से बहुत दूर देशो से internet पर कोई content search कर रहा है और उसके द्वारा आपके blog पर जा रहा है तो उसको बहुत ज्यादा wait करना पड़ेगा क्योंकि उसके request internet के द्वारा उतना दूर जाने में टाइम लगेगा जिस कारण आपके user को बहुत ज्यादा देर तक wait करना पड़ सकता है|

और जैसा की मैंने बताया की CDN एक distributed group of server होता है मतलब की यह different geographical region में available होता है मतलब की इसका data centre अलग अलग जगहों पर available होता है| यदि आप अपने blog के लिए CDN का इस्तेमाल करते हैं तो आपके blog का data सभी जगहों पर (जहाँ जहाँ CDN provider का data centre available है) copy कर दिया जाता है और जब कोई भी user आपके blog को open करता है तो सबसे पहले उसका request उस user के नजदीकी data centre के पास जाता है जहाँ से उस user को data provide किया जाता है तो ऐसी स्थिति में उस user के browser में आपके blog का data load होने में बहुत ही कम टाइम लगता है|

Without CDN

Without CDN

With CDN

With CDN

यह image cloud flare से लिया गया है|

CDN इस्तेमाल करने का क्या फायदा है?

जो भी नए blogger होते हैं उन्हें ये नहीं पता रहता है की CDN इस्तेमाल करने से क्या क्या फायदा होता है बस केवल उन्हें यही पता होता है की CDN इस्तेमाल करने से वेबसाइट या blog की loading speed बढती है तो चलिए हम आज इसके और भी फायदे के बारे में बतायेंगे जो की नए blogger के साथ साथ पुराने blogger के लिए भी हेल्पफुल होगा|

Blog की loading speed बढाने में

जैसा की मैंने ऊपर में बताया की CDN अलग अलग जगहों पर available होता है जहाँ पर आपके data के cache file को store करके रखता है जिसके कारण आपके blog की loading speed fast हो जाती है मतलब की user के request को ज्यादा दूर तक travel नही करना पड़ता है जिसके कारण user के browser में आपके blog का content fast load होता है|

Google Ranking में

Google ने बहुत पहले ही announce कर दिया है की जिस blog का loading speed fast होगा उसी blog को SERP (Search Engine Result Page) यानि की first page पर दिखाया जायेगा| जब भी आप अपने blog की loading speed चेक करेंगे तो सभी loading speed checker tools CDN इस्तेमाल करने का सलाह देते हैं जिससे आपके blog की loading speed fast हो जाती है|

Improving Website security

CDN आपके blog या वेबसाइट के security के लिए DDoS Mitigation, Security Certificate इत्यादि functions के द्वारा आपके blog या वेबसाइट का security को improve करता है मतलब की आपके security को मजबूत करता है जिसके कारण आपके blog के हैक होने के chances कम हो जाते हैं|

Increase traffic handling

जैसा की मैंने बताया की CDN के server अलग अलग जगहों पर available होता है जिसके कारण जो लोग जहाँ से search करेंगे उन्हें उनके नजदीकी CDN server के द्वारा data provide किया जाता है जिससे आपके blog पर एक साथ बहुत ज्यादा traffic आ सकता है मतलब की CDN use करने के बाद आपका server बहुत ज्यादा traffic को handle कर सकता है|

Bandwidth Cost को कम करता है

एक जगह से दुसरे जगह पर wired और wireless network के द्वारा जितना data एक बार में transfer होगा उसके capacity को Bandwidth कहा जाता है| जब आप Hosting purchase करते होंगे तो आपने देखा होगा की आपको space के साथ साथ Bandwidth भी provide किया जाता है जो की limited या unlimited हो सकता है| मान लीजिये अगर आप hosting लेते समय 1000 MB Bandwidth purchase करते हैं और यदि एक user को आपके blog के content load होने में 1 MB bandwidth इस्तेमाल हो जाता है तो ऐसी स्थिति में 1000 से ज्यादा user आपके blog को open नहीं कर पाएंगे मतलब की जब आपका bandwidth खत्म हो जायेगा तो आपका blog किसी भी browser में load नहीं होगा| और स्थिति में यदि आप CDN इस्तेमाल करते हैं तो Bandwidth कम खर्च होगा क्योंकि आपके user के request को ज्यादा दूर तक travel नहीं करना पड़ेगा जिसके कारण आपका bandwidth भी कम उपयोग होगा|

Conclusion and Final Words

जब से Google ने announce कर दिया है की जिसका blog का loading speed fast होगा उसी का blog rank करेगा तो ऐसी स्थिति में सभी blogger अपने अपने blog की loading speed को fast करने के लिए दिन रात एक कर दे रहे हैं लेकिन उन्हें सही knowledge नहीं होने के कारण वे अपने blog की loading speed fast नहीं कर पाते हैं| मैंने एक पोस्ट लिखा था की Blogger blog का loading speed कैसे बढ़ाएं? हम आगे आने वाले पोस्ट में लिखेंगे की WordPress platform पर चल रहे blog का loading speed कैसे बढ़ाएं?

CDN एक बेहतर option है blog की loading speed को fast करने का| एक तरह से हम यह भी कह सकते हैं की CDN एक inter-mediator है जो की आपके server से data को fetch करके user तक पहुंचाता है जैसे कभी भी कोई बड़ा आदमी दुसरे देशो में जाता है जहाँ पर दूसरा language बोला जाता है और इस आदमी को वे language नहीं आते हैं तो ऐसी स्थिति में वे एक inter-mediator रखते हैं जो की दोनों तरफ के language को convert करता है जिससे दोनों तरफ के user के user को आसानी से सभी बात समझ में आ जाती है ठीक उसी प्रकार CDN भी है|

मुझे उम्मीद है की यह पोस्ट आपको बहुत पसंद आया होगा मैंने अगले पोस्ट में बताऊंगा की CDN provider कौन कौन से हैं और अपने blog के लिए CDN का इस्तेमाल कैसे करें? इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरुर share करें और यदि आपको इससे related कोई भी प्रॉब्लम हो तो आप निचे comment box के द्वारा पूछ सकते हैं| Thank you Visit again to Guptatreepoint.

About the author

SUMIT KUMAR GUPTA

Myself Sumit Kumar Gupta. I am a programmer and blogger. I spend more time on programming and helps other programmers. I am a part-time blogger because I would like to become a Software developer.

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

5 Comments