Basic-Computer difference

SSD vs HDD in Hindi? SSD और HDD में क्या difference है?

SSD vs HDD
Written by guptatreepoint

SSD vs HDD in Hindi? SSD और HDD में क्या difference है? What is difference between SSD and HDD? HDD vs SSD in Hindi? Hello Friends! How are you? Welcome again to Guptatreepoint blog. दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम बात करने वाले हैं की SSD क्या होता है और HDD क्या होता है? इसके साथ साथ SSD vs HDD के बारे में बात करेंगे|

दोस्तों जब भी आप laptop या computer लेने जाते होंगे तो आपको HDD और SSD दोनों प्रकार के storage device मिलते होंगे जिसके कारण आप confuse हो जाते होंगे| Mostly new user जब computer या laptop लेने जाते हैं तो वो खुद confuse हो जाते हैं| खुद मैं ही एक बार laptop लेने गया था तो मुझे SSD और HDD के बारे में नहीं पता था जिसके कारण मैंने HDD storage device लेने का फैसला बनाया|

दोनों में सबसे best कौन है और कौन storage device को लेना चाहिए ये तो मैं completely नहीं बता सकता क्योंकि सबकी अलग अलग जरुरत होती है मतलब की किसी को ज्यादा data store करने की जरुरत होती है किसी को कम| मैं दोनों में difference बताऊंगा आपको जो पसंद आये वो आप ले सकते हैं| (SSD vs HDD)|

यदि आपको faster response का storage device चाहिए तो आपके लिए SSD अच्छा है लेकिन यह कम storage capacity का बनाया जाता है और यदि आप ज्यादा storage capacity का storage device लेना चाहते हैं तो आपके लिए HDD अच्छा रहेगा क्योंकि यह कम दाम में ज्यादा storage capacity provide करता है|

SSD क्या है? SSD vs HDD

SSD Image

SSD Image

इस article में मैं आपको आसान तरीका में SSD के बारे में बताऊंगा जिससे आप और सभी कोई आसानी से SSD के बारे में जान सकें| तो चलिए start करते हैं| SSD का full form “Solid-State Drive” होता है| यह एक storage device होता है जिसमें data store करने के लिए microchip लगे हुए होते हैं| Memory Stick (एक प्रकार का memory card) की तरह इसमें भी कोई moving parts नहीं होते हैं यह microchip में data को store करता है|

HDD (Hard Disk Drive) की तरह, इसमें magnetic platter से data को actual location से read और write करने के लिए कोई भी actuator arm नहीं होता है मतलब की HDD में data को read और write करने के लिए actuator arm को move करके location तक पहुंचना रहता था जिसके कारण वह slow work करता है लेकिन SSD में data को read और write करने के लिए एक Embedded Processor होता है जिसे Controller कहा जाता है| जैसे मान लीजिये आपको एक टास्क दिया गया की एक कॉलेज जिसका नाम “ABC college” है उस कॉलेज में आपको एक XYZ नाम के student को खोजना है तो इसके लिए आपको college के सारे department को search करना होगा| लेकिन यदि आपको XYZ student का पूरा information आपको दे दिया जाये जैसे department का नाम, roll number इत्यादि तो उस XYZ student को आप आसानी से खोज सकते हैं जो की बहुत ही fast काम होगा और आपका time भी बचेगा बस यही rule SSD follow करता है|

SSD (Solid-state Drive) जिसे Solid-State Disk भी कहा जाता है| यह एक Non-volatile storage device होता है जो की data को हमेशा के लिए store कर के रखता है मतलब की जब आप computer को turn off कर देंगे फिर भी इस storage device से data loss नहीं होगा|

SSD disk drive को faster Input / Output performance के लिए design किया गया है| इस storage device को heavy read और random workload के लिए design किया गया है| ज्यादा जानकारी के लिए visit करें

HDD क्या है? SSD vs HDD

HDD Image

HDD Image

दोस्तों अगर आप computer या laptop use करते होंगे तो आपने जरुर HDD के बारे में सुना होगा लेकिन क्या आप इसके बारे में पूरी जानकारी रखें हैं यदि नहीं तो कोई बात नहीं मैं आपको आसान से भाषा में इसके बारे में बताऊंगा जिससे आप कहीं भी किसी को भी आसानी से इसके बारे में समझा सकें| तो चलिए start करते हैं|

HDD का full form “Hard-Disk Drive” होता है| यह Non-volatile Storage Device होता है जो की data को long period of time के लिए store करके रखता है| Non-volatile का मतलब होता है “अपरिवर्तनशील” that means वैसा storage device जो data को ज्यादा समय तक के लिए store करके रखे या हम कह सकते हैं की जो data को हमेशा के लिए store करके रखे जब तक हम use delete ना करें| Computer के power off होने के बाद भी जो data को store करके रखता है उसे Non-volatile memory कहा जाता है|

Hard Disk Metal (अलमुनियम) का बना हुआ होता है जिस पर Magnetic Material की पतली परत चढ़ाई हुयी रहती है| इसमें number of circular plates लगे हुए होते हैं जो की एक cylinder के help से जुड़े हुए होते हैं| यह disk move या spin करके data को read और write करने का काम करते हैं यानि की data को store करने का काम करते हैं| सभी circular plates magnetic heads (read / write head) के साथ जोड़ा जाता है, जिसमें एक moving disk arm या actuator arm arrange किया जाता है जो की platter से मतलब की circular plates से data को read और write करने का काम करता है|

यदि हमें Hard disk का storage capacity बढ़ाना होता है तो उसके लिए हम number of circular plates को बढ़ाते हैं| यह data को Sequentially access करने के साथ साथ random-manner में भी data को access करता है मतलब की यह किसी individual block के data को भी retrieve कर सकता है और किसी individual block में data को store कर सकता है|

अभी तक Hard disk का rotation speed मतलब की move करके data को read और write करने का speed 5200 से 15000 RPM (Rotation per minute) तक है| Hard Disk drive को सबसे शुरू में IBM के द्वारा 1956 में introduced किया गया था| 1960 के दशक तक Hard disk drive सभी general-purpose computer के लिए प्रमुख secondary storage device बन गया|

यह बहुत ही सस्ते दरों में बहुत ज्यादा storage capacity provide करता है हालाँकि SSD का price storage capacity के हिसाब से बहुत ही ज्यादा है|

Comparison Chart between SSD and HDD (SSD vs HDD)

SSD vs HDD

Attributes or CharacteristicsSSD (Solid-State Drive)HDD (Hard-disk drive)
CostSSD बहुत ज्यादा महंगा होता है जो की ज्यादा दामों में कम storage capacity provide करता है|यह SSD की तुलना में बहुत ही सस्ते दरों में मिल जाता है मतलब यह कम दामों में ज्यादा storage capacity provide करता है|
Speedइसमें Moving parts नहीं होने के कारण यह बहुत ज्यादा fast होता है| इसका Input /Output performance बहुत fast होता है|इसमें moving parts होने के कारण इसका speed SSD की तुलना में कम होता है|
VibrationMoving parts नहीं होने के कारण यह Vibrate नहीं होता है|Moving parts होने के कारण यह कभी कभी Vibrate करने लगता है|
Capacityअभी 2018 तक Laptop में इसका size 1 TB से ज्यादा नहीं आ रहा है और वहीँ Desktop में 4 TB maximum आ रहा है|HDD का size laptop में 500 GB से लेकर 2 TB तक आ रहा है और वहीँ desktop में इसका size 10 TB maximum आ रहा है|
Battery Lifeयह कम battery का खपत करता है| इसमें battery का average खपत 2 से 3 watt है जिसके कारण battery performance ज्यादा देर तक रहता है|यह बहुत ज्यादा battery का खपत करता है| इसमें battery का average खपत 6 से 7 watt है जिसके कारण इसका battery performance SSD की तुलना में कम होता है|
Booting Timeइसमें Operating system का booting time 10 से 13 second के आस पास है|इसमें Operating system का booting time 30 से 40 second के आस पास है|
File opening speedइसमें HDD के अपेक्षा file opening speed fast होता है|इसमें SSD के अपेक्षा File opening speed slow होता है|
Heat Producedइसमें moving parts नहीं होने के कारण, यह कम heat (गरम) होता है|यह भी ज्यादा heat नहीं होता है लेकिन इसमें moving parts होने के कारण SSD के अपेक्षा ज्यादा heat होता है|

Conclusion and Final Words

SSD और HDD के नाम को सुनकर बहुत लोग confuse हो जाते हैं जिसके कारण वे ये decide नहीं कर पाते हैं की कौन से storage device का laptop या computer लूँ| लेकिन इस पोस्ट के बाद अब आपको laptop या computer लेने में कोई परेशानी नहीं होगी|

यदि आपको अपने computer में बहुत ज्यादा storage capacity नहीं चाहिए और fast performance चाहिए तो आपके लिए SSD best है लेकिन यदि आपको बहुत ज्यादा storage capacity कम दामों में चाहिए तो आपके लिए HDD best है| दोनों storage device का अपना अपना फायदा और अपना अपना नुकसान है| इस पोस्ट के जरिये मैं आपको ये तो नहीं बता सकता की आपको कौन सा storage device वाला computer लेना चाहिए लेकिन आप अपने हिसाब से सोच समझकर ही storage device लेने का फैसला करें|

offer

दोस्तों मैंने इस पोस्ट में बताया की SSD क्या है? HDD क्या है? Comparison chart between SSD and HDD? SSD vs HDD? मुझे उम्मीद है की यह पोस्ट आपको काफी पसंद आया होगा इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ share करके उन्हें भी इसके बारे में जानकारी दें जिससे वे भी computer लेते समय confusion महसूस ना करें| यदि इस पोस्ट में आपको कोई भी information wrong लगी हो तो आप मुझे तुरंत इन्फॉर्म करें मैं उस information को सुधरने की कोशिश करूँगा| Thank you for visit Guptatreepoint blog.

About the author

guptatreepoint

Myself Sumit Kumar Gupta. I am a programmer and blogger. I spend more time on programming and helps other programmers. I am a part-time blogger because I would like to become a Software developer.

Leave a Comment