C

What is C Language in Hindi – C Language क्या होता है?

What is C Programming Language

आज के इस पोस्ट में हम सीखेंगे की C language यानि की C programming language क्या होता है (What is C Programming Language in Hindi). जब भी आप computer के फील्ड में यानि की प्रोग्रामिंग के क्षेत्र में कदम रखते हैं तो सबसे पहले आपको C language सिखाया जाता है या फिर किसी भी professional course जैसे की BCA, B.Sc(IT), MCA इत्यादि में आपको सबसे पहले C programming language पढने को मिलता है|

क्या आप जानते हैं की C programming language क्या होता है और सबसे पहले इसको पढने के लिए क्यों कहा जाता है? इस पोस्ट में हम इसी चीज के बारे में जानेंगे| इस ब्लॉग में C programming language के सभी tutorials programs के साथ साथ पूरे details में बताये जायेंगे जिससे beginners (जो computer field में शुरू शुरू आयें है) और professionals को बहुत ही मदद मिलेगी|

C Programming Tutorials in Hindi

C language एक general-purpose programming language है जिसे सन् 1972 में
Dennis Ritchie के द्वारा Bell Labs. में develop किया गया था| UNIX operating system को develop करने के लिए C Programming Language को बनाया गया|

C programming language को System application create करने के लिए develop किया गया था जो की directly Hardware devices जैसे की Kernels, drivers etc. के साथ आसानी से interact कर सके|

इस programming language को सभी programming language का base (आधार) माना जाता है क्योंकि इसमें सारे syntax बहुत ही आसान होते हैं और सभी programming language को develop करने में C programming language का इस्तेमाल किया गया है, इसी वजह से इस programming लैंग्वेज को सबसे शुरू में सिखाया जाता है|

C programming language एक procedural और structured programming language होता है| Procedural का हिंदी meaning “प्रक्रियात्मक” होता है मतलब की एक way में या एक प्रक्रिया के अनुसार|

Procedural Language क्या होता है?

Procedural language एक प्रकार का computer programming language होता है जो की एक program को लिखने के लिए well-structured steps का series specify करता है|

दुसरे शब्दों में कहें तो यह एक प्रकार का computer programming language होता है जो की एक ऐसा process / procedure (प्रक्रिया) provide करता है जिससे किसी भी program को अच्छे तरीके से लिखा जा सके| अच्छे से लिखे जाने को ही well structured steps कहा जाता है और इसी वजह से इसे Structured programming language भी कहा जाता है|

Features of C Language – C Programming Language के गुण

C प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के ढेर सारे गुण मौजूद हैं जिसमें से हम कुछ गुण को यहाँ पर mention कर रहे हैं|

  • Easy to learn : C programming language के syntax बहुत ही आसान है और बहुत ही साफ साफ syntax होते हैं जिससे इस language को सीखना बहुत ही आसान हो जाता है जैसे एक छोटे से बच्चे को alphabets (A – Z) one by one करके सिखाया जाता है ताकि वो आगे चलके एक string या word बना सके ठीक उसी प्रकार इस programming language में भी हर छोटे से छोटे और आसान words का उपयोग किया गया है जिससे नए लोगो को सिखने में आसानी हो|
  • यह एक robust (मजबूत) language है क्योंकि इसमें बहुत सारे in-built function और operators होते हैं जो की किसी भी बड़े से बड़े (complex) program को लिखने में आसान सा तरीका provide करते हैं|
  • यह एक portable language है मतलब की इस programming language में लिखे गए कोड को आप आसानी से किसी दुसरे मशीन में भी बिना किसी changement के run करा सकते हैं|
  • इस language के सबसे main features extending features है मतलब की यह programming language का इस्तेमाल करके आगे बहुत सारे programming language बनाये जा चुके हैं|
  • एक C program बहुत सारे functions के collection से बने होते हैं जो की C library के द्वारा supported होते हैं| इसमें आप खुद का भी library बना सकते हैं यानि की user define library भी create कर सकते हैं|
  • C प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सबसे ज्यादा उपयोग होने वाला प्रोग्रामिंग लैंग्वेज हैं | Operating system को develop करने के लिए generally C language का ही उपयोग किया जाता है|
Features of C
Features of C

C language के कुछ महत्वपूर्ण तथ्य – Important facts of C

  • C language का आविष्कार UNIX operating system को develop करने के लिए हुआ था|
  • यह language आज सबसे ज्यादा popular programming language है|
  • यह language B language का successor है|
  • जितने भी software बनते हैं उनमे C लैंग्वेज का concept इस्तेमाल होता है|
  • UNIX operating system totally C programming language में लिखा गया है|
  • लगभग सभी programming language को develop करने के लिए C language का सहारा लिया गया है मतलब की सभी programming language C programming language के syntax को inherit किये हैं|
  • Linux OS और RDBMS MYSQL C language में लिखे गए हैं|
  • C low level language और high level language दोनों के ही features को include करता है इसलिए इसे Middle Level Language कहा जाता है|

History of C language – C language का इतिहास

C programming language को सन् 1972 में AT & T Bell Laboratory में Dennis Ritchie के द्वारा UNIX Operating system को design करने के लिए develop किया गया था| यह Bell Laboratory U.S.A. में स्थित है|

Dennis Ritchie
Dennis Ritchie

यह programming language को B, BCPL जैसे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में होने वाले प्रॉब्लम को दूर करने के लिए develop किया गया|

चलिए हमलोग programming language के development year के list को देखते हैं| जो की C language से पहले develop किया गया था और C language के बाद कुछ developed language के lists:

LanguageYearDeveloped By
Algol1960International Group
BCPL1967Martin Richard
B1970Ken Thompson
Traditional C1972Dennis Ritchie
K & R C1978Kernighan & Dennis Ritchie
ANSI C1989ANSI Committee
ANSI / ISO C1990ISO Committee
C991999Standardization Committee

Conclusion and Final Words

C language सबसे basic language है| अगर आप computer के programming field में enter करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको C language सीखना पड़ेगा| अगर आप बिना C language को सीखे दुसरे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखते हैं तो वो थोडा सा आपके लिए मुश्किल हो सकता है क्योंकि जिस प्रकार एक बच्चा alphabets के एक एक character को सीखे बिना words नहीं बना सकता उसी प्रकार आप बिना C Language को सीखे आगे की programming लैंग्वेज अच्छे तरीके से नहीं सिख सकते हैं|

अब बात आती है की कुछ लोग कहते हैं की तुम बिना C language को सीखे दुसरे लैंग्वेज को सिख सकते हो तो आप खुद ही इस बात से अंदाजा लगा सकते हो की जिस प्रकार एक uneducated person कुछ बोल सकता है यानि की बिना पढ़े वो भी बोल सकता है और जो पढ़ा हुआ इन्सान है वो भी बोल सकता है बस दोनों में फर्क इतना ही है की एक इन्सान हरेक situation के हिसाब से अलग अलग तरीका में बोल सकता है जबकि अनपढ़ इन्सान एक ही तरीका से हमेशा बात कर सकता है|

मुझे उम्मीद है की यह पोस्ट आपको काफी पसंद आया होगा| इस पोस्ट को हर उस इन्सान तक पहुंचाएं जो programming language सीखना चाहता है या जो programming language सिख रहा है| Guptatreepoint blog पर आने के लिए धन्यवाद|

ये भी पढ़ें:

Please give me rating

About the author

SUMIT KUMAR GUPTA

Myself Sumit Kumar Gupta. I am a programmer and blogger. I spend more time on programming and helps other programmers. I am a part-time blogger because I would like to become a Software developer.

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.