Basic-Computer

Extranet क्या है – Difference between Internet, Intranet and Extranet in Hindi

Extranet

Extranet क्या है – Difference between Internet, Intranet and Extranet in Hindi? Hello Friends! How are you? Welcome again to Guptatreepoint blog. दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे की Extranet क्या होता है और Internet, Intranet और Extranet में क्या difference है?

Extranet (एक्सट्रानेट) क्या है?

यह एक Private Network होता है जो की Public Telecommunication system और Internet Technology का इस्तेमाल करके अपने business के information को Secure तरीके से Vendors (विक्रेताओं), Supplier (आपूर्तिकर्ताओं), Customers (ग्राहकों), Partners (भागीदारों) और अन्य व्यवसायों के साथ Share करने में मदद करता है|

यह Intranet का ही एक part है जो की हमें Third party user को डाटा share करने की सुविधा प्रदान करता है| जैसे यदि आपके Organization का ब्रांच एक से ज्यादा जगह पर है और आप चाहते हैं की एक ही information सभी ब्रांच में available हो जैसे कोई Notice, तो इसके लिए आप Extranet का उपयोग कर सकते हैं|

Internet, Intranet और Extranet में difference:

S.No.InternetIntranetExtranet
1यह एक public नेटवर्क होता है जो की दुनिया के सभी computers को connect करने का काम करता है|यह एक private नेटवर्क होता है जो की एक Organization के अन्दर उपयोग होता है|यह एक private नेटवर्क होता है जो की Public network के मदद से Vendors, suppliers इत्यादि को डाटा शेयर करने का काम करता है|
2इसके content दुनिया के किसी भी कोने में access किया जा सकता है|इसके कंटेंट केवल एक Organization के अन्दर ही access किया जा सकता है|इसके content एक से ज्यादा Organization access कर सकता है|
3यह किसी एक के द्वारा नहीं चलाया जाता है|यह केवल एक Organization के द्वारा manage किया जाता है|यह Multiple organization के द्वारा manage किया जाता है|
4इसके द्वारा दुनिया के सभी computers को connect किया जा सकता है|इसके द्वारा केवल एक Organization के Computes को connect किया जाता है|इसके द्वारा एक से ज्यादा Organization के computers को connect किया जाता है|
5इसमें Security user के device पर depend करता है|इसमें Security Firewall पर depend करता है|इसके Security Internet और Extranet के firewall पर depend करता है|
6इसको use करने के लिए हमें username और password की आवश्यकता नहीं पड़ती है|इसको access करने के लिए हमें valid username और password की आवश्यकता पड़ती है|इसको भी access करने के लिए हमें valid username और password की आवश्यकता पड़ती है|
7Example: इसको आम लोग जैसे की हमलोग इस्तेमाल करते हैं|Example: इसको कोई एक Organization इस्तेमाल करती है जैसे की Wipro company अपने Staff के बीच information शेयर करने के लिए इसका इस्तेमाल करती है|Example: इसको दो या दो से अधिक Organization इस्तेमाल करते हैं जैसे की HP और Intel एक दुसरे को डाटा शेयर करने के लिए इसका इस्तेमाल करते हैं|

Conclusion and Final Words

दोस्तों इंट्रानेट और एक्सट्रानेट दोनों का काम same है लेकिन इंट्रानेट एक organization के अन्दर ही accessible होता है जबकि एक्सट्रानेट एक organization के अलग अलग ब्रांच में accessible होता है| दोनों Private Network ही हैं जिनका काम अपने डाटा को private तरीके से share करना होता है|

मैंने इस पोस्ट में बताया की एक्सट्रानेट क्या है? मुझे उम्मीद है की यह पोस्ट आपको काफी पसंद आया होगा| इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें और साथ ही साथ यदि आपको लगता है की इस पोस्ट में हमें कुछ Changement करना चाहिए तो आप मुझे तुरंत इन्फॉर्म कर सकते हैं| Guptatreepoint blog पर आने के लिए धन्यवाद|

About the author

SUMIT KUMAR GUPTA

Myself Sumit Kumar Gupta. I am a programmer and blogger. I spend more time on programming and helps other programmers. I am a part-time blogger because I would like to become a Software developer.

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

2 Comments