Basic-Computer

Output Device क्या है? Output Device कौन कौन से हैं

Output Device

आज के युग में computer का ज्ञान होना बहुत ही महत्वपूर्ण हो गया है क्योंकि हर जगह चाहे वह रेलवे स्टेशन हो, बैंक हो, पोस्ट ऑफिस हो सभी जगहों पर computer का इस्तेमाल होता है ताकि किसी भी प्रकार के information को जल्दी से जल्दी एक जगह से दुसरे जगह भेजा जा सके और important data भी दुनिया के किसी भी कोने में कभी भी access किया जा सके|

Computer को simple शब्दों में समझे तो यह Input device, Processing Device और Output device का collection होता है जो की किसी भी प्रकार के calculation को perform कर सकता है| मैंने अपने पिछले पोस्ट में बताया था की Input Device क्या होता है और आज के इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा की Output Device क्या होता है – What is Output device (आउटपुट डिवाइस क्या होता है)?

Output device क्या होता है?

वैसा डिवाइस जो की डाटा प्रोसेस होने के बाद output/Result प्रदान करता है उसे आउटपुट डिवाइस कहा जाता है| Output का हिंदी meaning उत्पादन / किया गया काम होता है मतलब की वैसा information जो की हमे कुछ काम करने के बाद मिला हो या कुछ डाटा process होने के बाद वह प्राप्त हुआ हो उसे Output कहा जाता है और इस डाटा को hard copy या soft copy के फॉर्म में result प्रदान करने के डिवाइस को Output device कहा जाता है| जैसे अगर आप अपने computer को या mobile को दो नंबर add करने के लिए देते हैं तो वह डाटा को प्रोसेस करने के बाद आपको उसका result show करता है जो की आपके output device पर result मिलता है|

क्या आप जानते हैं की हार्ड कॉपी और सॉफ्ट कॉपी का मतलब क्या होता है? दोस्तों Hard copy का हिंदी meaning “कागजी प्रति” होता है मतलब की वैसा डाटा जो की कागज पर लिखा गया हो या कागज पर प्रिंट हो उसे Hard copyक हा जाता है जबकि soft copy का हिंदी meaning “इलेक्ट्रिक प्रति” होता है मतलब की वैसा डाटा जो की electronic device में देखने को मिले उसे Soft copy कहा जाता है|

हार्ड कॉपी को आप आसानी से छू सकते हैं यानि की इसे आप touch कर सकते हैं लेकिन सॉफ्ट कॉपी को आप छू (touch)  नहीं सकते केवल देख सकते हैं| जब आप कोई भी डॉक्यूमेंट को प्रिंट करवा कर के एक कागज के रूप में प्राप्त करते हैं उसे hard copy कहा जाता है लेकिन जब आप किसी भी प्रकार के डॉक्यूमेंट को आप अपने mobile में या अपने computer में देख रहे हैं या पढ़ रहे हैं तो उस document को soft copy कहा जायेगा|

Output Device नहीं होता तो क्या होता?

अब इस लेख के द्वारा आप output device के बारे में तो जान गए होंगे लेकिन क्या आपने कभी सोचा की अगर output device नहीं होता तो क्या होता? चलिए मैं बताता हूँ, दोस्तों ऐसा नहीं है की अगर आउटपुट डिवाइस नहीं होता तो computer काम करना बंद कर देता, आउटपुट डिवाइस के बिना भी computer डाटा को process कर सकता है लेकिन अगर आउटपुट डिवाइस नहीं होता तो हम अपने computer या mobile में हो रहे काम के रिजल्ट को नहीं देख पाते या फिर processing के दौरान जो error उत्पन्न होता उसे हम नहीं देख पाते, और जब हम उस एरर को नहीं देख पाते तो उसे solve भी नहीं कर पाते और ऐसे में हमे wrong result भी मिल सकता था|

चलिए example के द्वारा समझते  हैं: मान लीजिये आपके पास computer का पूरा set है लेकिन आपके desktop का screen खराब है उसमें कुछ अच्छे से नहीं दिख सकता है तो ऐसे में अगर आप अपने computer को किसी भी प्रकार के work देंगे तो अपना काम तो करेगा लेकिन जब आप data को printer के द्वारा प्रिंट करेंगे तो शायद आपको गलत रिजल्ट भी प्राप्त हो सकता है क्योंकि शायद आपने गलत इनपुट दिया हो क्योंकि आपको तो इनपुट देते समय कुछ भी नहीं दिखा इसलिए output device का होना जरुरी है|

Output device कौन कौन से हैं?

क्या आप जानते हैं की आपके पास जो computer का पूरा set है उसमें output device कौन कौन से हैं? इस पोस्ट को पढने के बाद आप अपने computer set में आउटपुट डिवाइस को आसानी से पहचान सकते हैं| इस पोस्ट में मैं सभी आउटपुट डिवाइस की सूचि (list) नहीं बना रहा हूँ लेकिन जितने common आउटपुट डिवाइस हैं उनके नाम दे रहा हूँ यहाँ पर: Let’s see…

  1. Monitor
  2. Printer
  3. Projector
  4. Speaker
  5. Headphone
  6. Plotter

1. Monitor

यह device आउटपुट डिवाइस के सबसे first list में मैंने listed किया है क्योंकि इस डिवाइस का इस्तेमाल सबसे ज्यादा होता है| Monitor सबसे main और common output device होता है जो की एकदम टेलीविज़न की तरह दीखता है, जो भी काम computer के द्वारा प्रोसेस हो रहा होता है या फिर प्रोसेस होने के बाद जो रिजल्ट मिलता है उसको display कराने का काम Monitor का होता है|

इसमें हम अपने आउटपुट को text, video, graphics, image etc. के form में देख सकते हैं| Monitor को Screen, Display, Video screen, Video Display Unit (VDU) और Video Display Terminal (VDT) के नाम से भी जाना जाता है| सबसे पहला computer monitor 1 March, 1973 को release किया गया था जो की Xerox Alto computer system का एक part था|

पहले के जितने भी monitor थे उनको आउटपुट डिवाइस के category में categorise किया गया है क्योंकि उसमें केवल हम रिजल्ट ही देख सकते थे लेकिन अब जितने भी touchable monitor आ रहे हैं उनको Input और Output दोनों डिवाइस के ही category में रखा गया है क्योंकि इसके द्वारा हम इनपुट देने के अलावा आउटपुट भी देख सकते हैं|

Monitor

Monitor

2. Printer

Printer एक external hardware आउटपुट डिवाइस होता है जो की computer में stored electronic data को लेकर के उसको हार्ड कॉपी के रूप में प्रदान करता है| इसे external hardware output device इसलिए कहा गया है क्योंकि इसके बिना भी हम computer में सारा काम कर सकते हैं| जब भी हम computer set की बात करते हैं तो उसमें printer नहीं आता है इसे computer set के बाहरी पार्ट में रखा गया है इसलिए इसे External hardware कहा जाता है|

प्रिंटर का इस्तेमाल सॉफ्ट कॉपी डॉक्यूमेंट को हार्ड कॉपी डॉक्यूमेंट में convert करने के लिए किया जाता है या साधारण शब्दों में कह सकते हैं की प्रिंटर का इस्तेमाल डॉक्यूमेंट को प्रिंट करने के लिए किया जाता है| जैसे यदि आप अपने computer में resume बनाते हैं तो कहीं भी company में देने के लिए उसको हार्ड कॉपी के form में generate करना पड़ता है मतलब की हार्ड कॉपी के form में लाने के लिए हमें प्रिंटर की मदद लेनी पडती है जिससे हमारा resume एक page में print हो जाता है|

Printer

Printer

3. Projector

Projector एक आउटपुट डिवाइस होता है जो की computer या blue ray player के द्वारा generate किया गया image को लेता है और उसको reproduce करता है मतलब की उसको एक बड़ा screen में display कराने का काम करता है| यह बड़ा स्क्रीन कोई दीवाल (wall), screen या फिर कोई plain surface (like board) हो सकता है|

For example, यदि आप अपने presentation को हजारो लोगो के सामने पेश करना चाहते हैं तो इसके लिए आप अपने computer के स्क्रीन में अपना presentation present नहीं करा सकते क्योंकि इससे सभी लोगो को आपका presentation नहीं दिखेगा और सभी लोगो को presentation दिखाने के लिए आपको एक projector की आवश्यकता पड़ेगी जो की आपके presentation को बड़े screen में display कराएगा|

Computer से इनपुट लेने के लिए अधिकांश projector HDMI या VGA cable का इस्तेमाल करते हैं| Digital projector इसका इस्तेमाल आज हम करते हैं वह Gene Dolgoff के द्वारा 1984 में बनाया गया था|

Projector

Projector

4. Speaker

Speaker का मतलब होता है बोलने वाला| Speaker एक आउटपुट डिवाइस है जो की computer से connect होकर के sound उत्पन्न करने का काम करता है| Computer के द्वारा जो sound उत्पन्न होता है उसे उत्पन्न करने के लिए computer के sound card का इस्तेमाल किया जाता है|

External speaker की आवश्यकता हमें तब पड़ी जब हमें अपने computer के sound को और loudly (जोर से) way में produce करना हुआ| जो speaker motherboard के साथ inbuilt होता है उसे Internal Speaker कहा जाता है|

Speaker

Speaker

5. Headphones

Headphone को earphone के नाम से भी जाना जाता है| यह एक hardware output device होता है जो की computer line out या speaker में connect होने के बाद audio को privately produce करता है मतलब की जब हमें किसी भी प्रकार का audio private तरीके से सुनना होता है यानि की बिना किसी को disturb किये सुनना होता है तो हम headphones का इस्तेमाल करते हैं|

Line out को audio out और sound out भी कहा जाता है| Line out jack computer के sound card में पाया जाता है जो की external speaker, headphones को connect करने की facility provide करता है|

अगर आपके computer में speaker लगा हुआ हो और आप अपने computer के line out में headphone को connect करते हैं तो आपके speaker में sound नहीं आएगा, केवल headphone में ही sound आएगा और अगर आप दोनों में ही sound को एक साथ सुनना चाहते हैं तो फिर उसके लिए आपको USB headphones का इस्तेमाल करना होगा|

Headphone

Headphone

6. Plotter

Plotter एक आउटपुट डिवाइस होता है जो की printer के जैसा ही होता है| plotter का इस्तेमाल vector graphics को print करने के लिए किया जाता है| जब भी कोई digital image को mathematical expression और equation के मदद से बनाया जाता है उसे Vector graphics या vector image कहा जाता है| Vector graphics के द्वारा बनाये गए image को आप कितना भी zoom (बड़ा) करेंगे तो उसके quality में कोई फर्क नहीं पड़ता है|

Plotter में multiple image को draw करने के लिए toner के जगह pen, pencil, marker और other writing tools का इस्तेमाल किया जाता है| Vector image में pixels नहीं होते हैं उसके जगह पर पर continuous line होता है जिसे zoom करने पर उसमें धुंधलापन नहीं आता है| सबसे पहला plotter 1953 में Remington-Rand के द्वारा आविष्कार किया गया था|

Plotter

Plotter

इसे भी पढ़ें:

Final Words

इस पोस्ट में मैंने output device के बारे में बताया है| इसमें मैंने कुछ ही output device की list बनाई है और इसके लिस्ट को भी मैंने इस पोस्ट में details में नहीं बताया है| इसको details में बताने के लिए मैं सभी लिस्ट के बारे में एक एक पोस्ट अलग से लिखूंगा|

मुझे उम्मीद है की इस पोस्ट को पढने के बाद आपको output device के बारे में कोई confusion नहीं होगा| अगर आपको फिर भी कोई confusion है तो आप मुझे comment box के द्वारा बताएं मैं आपके confusion को दूर करने की कोशिश करूँगा| इस पोस्ट को पढने के लिए और Guptatreepoint blog पर आने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद|

About the author

SUMIT KUMAR GUPTA

Myself Sumit Kumar Gupta. I am a programmer and blogger. I spend more time on programming and helps other programmers. I am a part-time blogger because I would like to become a Software developer.

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.