Basic-Computer

Generation of Computer in Hindi – कंप्यूटर की पीढ़ी

Generation of computer

Generation of Computer in Hindi – कंप्यूटर की पीढ़ी. मनुष्य के जैसा कंप्यूटर का भी अपना पीढ़ी होता है| प्रत्येक पीढ़ी में computer के field में कुछ ना कुछ नया चीज का आविष्कार हुआ| सन् 1940 से कंप्यूटर का journey शुरू होता है| सन् 1940 में Vacuum Tubes का आविष्कार हुआ था| इसी प्रकार computer के क्षेत्र में हमेशा नया नया टेक्नोलॉजी का आविष्कार किया गया| अभी तक कंप्यूटर को कुल पाँच पीढ़ी में वर्गीकृत किया गया है| Five Generation of Computer in Hindi.

Generation of Computer in Hindi – कंप्यूटर की पीढ़ी:

  1. First Generation (1940 – 1956)
  2. Second Generation (1956 – 1963)
  3. Third Generation (1964 –  1971)
  4. Fourth Generation (1971 – 1980)
  5. Fifth Generation (Present and Beyond)

First Generation of Computer – कंप्यूटर की पहली पीढ़ी

पहली पीढ़ी के कंप्यूटर में Vacuum Tubes का इस्तेमाल किया जाता था| 1940 से 1956 के बीच First generation का computer का इस्तेमाल होता था| First Generation  का successful electronic computer ENIAC था जो की J. P. Eckert और J. W. Mauchy के द्वारा develop किया गया था| ENIAC का full form “Electronic Numeric Integrated And Calculator” है|

ENIAC बहुत ही बड़ा computer था जिसका वजन 30 टन के करीब था| यह limited data को ही store कर पाता था| ENIAC के समाप्त होने से पहले ही Von Neumann ने EDVAC को design किया| यह binary number system के base पर work करता था| EDVAC का फुल फॉर्म “Electronic Discrete Variable Automatic Computer” है| प्रथम जनरेशन के कंप्यूटर बहुत ही ज्यादा गर्मी प्रदान करते थे जिसे cool रखने के लिए Air Conditioners (AC) की आवश्यकता पडती थी|

प्रथम जनरेशन के कंप्यूटर बहुत ही ज्यादा power का उपयोग करते थे| यह बहुत बड़ा होने के कारण एक जगह से दुसरे जगह नहीं ले जाया जा सकता था| प्रथम जनरेशन में कई तरह के कंप्यूटर का निर्माण हुआ जो की इस प्रकार है: ENIAC, EDVAC, EDSAC (Electronic delay storage automatic calculator ), UNIVAC (Universal Automatic Computer).

Second Generation of computer – कंप्यूटर की दूसरी पीढ़ी

कंप्यूटर के second generation में Vacuum Tubes की जगह Transistors का उपयोग होता था| Transistors Vacuum Tubes के अपेक्षा काफी छोटा था जिसके कारण इसे एक जगह से दुसरे जगह ले जाया जा सकता था मतलब की यह portable था| इस जनरेशन का कंप्यूटर भी गर्मी प्रदान करते थे लेकिन First generation computer के अपेक्षा यह कम गर्मी प्रदान करता था| इसे भी ठंडा रखने के लिए AC (Air Conditioner) की आवश्यकता पड़ती थी|

Second Generation computer की अवधि 1956 से 1963 तक चला| Second generation में भी कई प्रकार के computer develop किये गए जो की इस प्रकार हैं: IBM, CDC, Honeywell, Univac 1108 etc.

Third Generation of Computer – कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी

कंप्यूटर के तीसरी पीढ़ी में I.C. (Integrated Circuits) का उपयोग किया जाता था| Third Generation कंप्यूटर की अवधी 1964 से 1971 तक चला| I.C एक small devices होता है जिसमें computer बनाने के लिए हजारो Transistors, Resistance और others electronic devices लगे हुए होते हैं| I.C का आविष्कार Robert Noyce और Jack Kilby के द्वारा किया गया था|

इस Generation के computers First and Second generation computer के अपेक्षा बहुत ही छोटे होते हैं और इसमें storage capacity भी बहुत ज्यादा होती है इसके साथ साथ यह calculation को बहुत ही फास्ट perform करता है| इस जनरेशन के कंप्यूटर बहुत ही कम power का इस्तेमाल करते हैं यानि की बहुत ही कम power खपत करते हैं| यह बहुत ही ज्यादा विश्वसनीय (Reliable) था| इस generation के computers को mini computer भी कहा जाता है| इसका cost भी बहुत कम होता है जिसके कारण इस generation के computer widely use होते थे जैसे business में, industrial area में|

इस generation में भी बहुत प्रकार के devices का आविष्कार हुआ था जो की इस प्रकार हैं: PDP-8, PDP-11, ICL 2900, IBM 360, IBM 370 etc.

Fourth Generation computer – कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी

कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी में Micro Processor (माइक्रो प्रोसेसर) का उपयोग किया जाता है| इस generation का computer अभी हमारे computer में use होता है| Micro Processor एक single chip होता है जिसका उपयोग computer में Arithmetical और logical calculation को perform करने के लिए किया जाता है| U.S.A के Ted Hoff के द्वारा Micro Processor का आविष्कार किया गया था, उन्होंने सबसे पहला micro processor Intel 4004 को develop किया था और वो Intel corporation के लिए काम कर रहे थे|

कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी की अवधी 1971 से 1980 तक चला. हालाँकि आज भी computer में Micro processor का ही इस्तेमाल होता है| इस जनरेशन के computer को network के द्वारा एक दुसरे से जोड़ा जा सकता है| इस generation के computers बहुत ही छोटे और बहुत ही fast performance वाले होते हैं, इस generation के computer बहुत ही कम गर्मी प्रदान करते थे इसलिए इन्हें A.C की आवश्यकता नहीं पडती थी| इस Generation में High level language को develop किया गया था जैसे C, C++.

इस generation के computer V.L.S.I (Very Large Scale Integrated) Technology का उपयोग करते थे, इसलिए इसे Micro processor के नाम से भी जाना जाता था| इस generation में सबसे पहला Personal Computer (PC) IBM Company के द्वारा develop किया गया था|

Fifth Generation computer – कंप्यूटर की पाँचवी पीढ़ी

यह generation computer का present generation है| इस generation के computer ULSI (Ultra Large Scale Integrated) technology पर आधारित हैं| इसमें Artificial Intelligence (कृत्रिम होशियारी / बुद्धि) को develop किया जा रहा है जिसमें खुद से सोचने समझने की शक्ति होगी| यह नेचुरल language (किसी भी प्रकार का language) input respond करेगा मतलब की जिस प्रकार यूजर का input होगा उस प्रकार का output provide करेगा|

इस generation के computer को इस तरह बनाया जा रहा है ताकि वो अपने आप कार्य कर सके, उसे चलाने के लिए किसी end user की आवश्यकता ना पड़े| अभी Google Assistant, Windows Cortana इसके उदहारण हैं| इस generation की अवधी 1981 से अभी तक है| इसमें input method के लिए high level language का इस्तेमाल किया जाता है जैसे Python, C#, Java, R, etc.

Read Also:

About the author

SUMIT KUMAR GUPTA

Myself Sumit Kumar Gupta. I am a programmer and blogger. I spend more time on programming and helps other programmers. I am a part-time blogger because I would like to become a Software developer.

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

1 Comment